UPA NDA kya hai | UPA full form in Hindi

upa full form in hindi

UPA or NDA Kya hai?

(upa full form in hindi )हम आए दिन पढते  रहते हैं या आप सुनते भी रहते हैं कि NDA की सरकार या फिर UPA की सरकार किसका काम अच्छा है या नहीं ,या आप  गौर करेंगे कि कोई भी राजनीतिक पार्टी का नाम  NDA और  UPA है ही नहीं , तो फिर सरकार जो है वो NDA कैसे हो गई?  क्या है ? ये और कैसे ये काम करता है? आज के इस Article में , मैं आपको बताऊंगा NDA और UPA  क्या है,  क्या है इन दोनों में अंतर  और कैसे इनकी सरकार बन जाती है।

 तो सबसे पहले मैं आपको बता दूं कि UPA OR NDA एक गठबंधन की सरकार होती है। गठबंधन का मतलब होता है कि जब कभी में चुनाव में किसी भी पार्टी को बहुमत नहीं मिलता है तो अन्य राजनैतिक दलों के साथ मिलकर वह बहुमत हासिल  करके  वह सरकार बनाता है उसे हम गठबंधन की सरकार कहते हैं। तो गठबंधन की जो प्रथा आई थी वो संन 1998 में भाजपा के द्वारा शुरू की गई थी ,और भाजपा ने अपना एक गठबंधन दल बनाया जिसका नाम है  NDA, (NATIONAL DEMOCRATIC ALlIANCE ) जिसे हिंदी में हम (राजग -राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन ) भी कहते है।

NDA full form= National democratic alliance

ये एक गठबंधन दल है। इसमें मुख्य पार्टी भाजपा है और अन्य कई क्षेत्रीय पार्टियां है जो भाजपा के साथ मिलकर काम करती है , भाजपा पार्टी तो है लेकिन उनका एक दल है जिसे गठबंधन दल है और उसको एनडीए का नाम दिया गया जिसमें कई अन्य पार्टियां मिलकर उसके साथ काम करती है।

UPA Kya hai ?

 इसी तरीके से सन् 2004 में कांग्रेस ने भी  UPA  गठबंधन दल का निर्माण किया।  UPA का  पुराना  नाम ( UNITED PROGRESSIVE ALLIANCE ) जिसे हम हिंदी में ( संप्रग संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन )भी कहते हैं इसका निर्माण सन 2004 में किया गया था ,और इस गठबंधन से कांग्रेस ने दो बार अपनी सरकार भी बनायी जिसे यूपीए की सरकार कहते हैं।  यूपीए के अंदर दो मुखिया तो कांग्रेस है ही , लेकिन अन्य कई पार्टियां कांग्रेस के साथ मिलकर काम करती है तो मुझे उम्मीद है कि यूपीए और एनडीए को लेकर आपका डाउट कंप्लीट क्लियर हो गया होगा। ये दोनों एक गठबंधन दल है। NDA  को आप भाजपा से compare  कर सकते हो। और UPA  को आप कांग्रेस से रिलेट कर सकते हो। एनडीए की मुख्य पार्टी भाजपा ही है ,और यूपीए में कांग्रेसी है मतलब इन दोनों को आपस में रिलेट कर सकते हो।

UPA Full Form in hindi : United Progressive Alliance(यूनाइटेड प्रोग्रेसिव अलायंस)

अगर आपको लगता है कि 2004 से 2014 तक देश में कांग्रेस की सरकार थी तो आप गलत थे क्योंकि उस समय यूपीए की सरकार थी और अभी भी आपको लगता है कि देश में बीजेपी की सरकार है तो भी आप गलत हैं क्योंकि अभी देश में एनडीए की सरकार है। आपने कई बार सुना होगा कि यूपीए सरकार में घोटाले हुए तो कई बार मोदी जी को भी ये कहते हुए सुना होगा कि देश में राजग की फिर से सरकार बनेगी। एनडीए की फिर से सरकार बनेगी। अब आपके जहन में सवाल उठा होगा कि एनडीए और यूपीए में अंतर क्या है एनडीए क्या है यूपीए क्या है तो आज इसी पर बात करेंगे।

चलिए दोस्तों सबसे पहले यूपीए और एनडीए की फुल फॉर्म समझते हैं। upa full form  है यूनाइटेड प्रोग्रेसिव अलायंस जिसे शॉर्टकट में हम यूपीए कहते हैं या हिंदी में कहें तो सब प्रसंग संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन जिनकी अध्यक्षा सोनिया गांधी हैं जो पहले कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष थी।   अब बात करते एनडीए के फुल फॉर्म की एनडीए की फुल फॉर्म होती है-नेशनल डेमोक्रेटिक एलायंस  जिसे हिंदी में राजग कहते हैं।

UPA or NDA में पहले कौन बना ? और इसका इस्तिहस। 

राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन इन दोनों में एनडीए पहले बना।  1989  के चुनाव में जिस वक्त बोफोर्स घोटाले की देश में चर्चा थी तो राजीव गांधी की कांग्रेस चुनाव हार गई लेकिन बहुमत किसी को नहीं मिला। जनता दल को ज्यादा सीटें मिलती तो बीजेपी और जनता दल के साथ में कई दूसरी पार्टियों ने मिलकर सरकार बनाई। फिर पीवी नरसिम्हाराव के समय में 1993  में कांग्रेस बहुमत से थोड़ी पीछे रही तो  कुछ एक दो  दूसरी पार्टियों ने सपोर्ट कर दिया और कांग्रेस की मजबूती से सरकार बन गई। 1996  के चुनाव में किसी को बहुमत नहीं मिला। बीजेपी 161 सीटों के साथ सबसे बड़ी पार्टी बनी। राष्ट्रयपति  जी ने वाजपेयी को शपथ भी दिला दी और संसद में बहुमत साबित करने को बोल दिया। बहुमत के लिए 272 का आंकड़ा चाहिए था लेकिन बीजेपी के साथ आने को कोई तैयार नहीं था। बड़ी मुश्किल से वाजपेयी 192 के आसपास आँकड़ा पहुंचा सके और आखिर वाजपेयी ने 15 दिन के बहुमत के अल्टिमेटम से दो दिन पहले ही 13 दिन के समय में ही इस्तीफा दे दिया। फिर देवगौड़ा प्रधानमंत्री बने फिर इंद्रकुमार गुजराल प्रधानमंत्री बने। इन दोनों से जब कांग्रेस ने समर्थन वापस ले लिया तो दोनों की सरकार गिर गई और फिर देश में नए चुनाव हुए।

अब 1998 के चुनाव हुए। इस बार वाजपेयीजी को पता था कि बीजेपी को पूरा बहुमत मिलेगा नहीं तो उन्होंने क्या किया, चुनाव से पहले ही कई पार्टियों के साथ समझौता किया कि हम मिलकर चुनाव लड़ेंगे और कई पार्टियों को मिलाकर एक गठबंधन बनाया और नाम दिया। नैशनल डेमोक्रेटिक अलायंस शॉट में एनडीए या हिन्दी में कहें तो राजग राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन 1998 के चुनाव में भी एनडीए की सरकार बनी। फिर जब जयललिता अलग हुई तो 13 महीने बाद में वाजपेयी जी की सरकार गिर गई । 1999  के चुनाव में एनडीए की फिर से सरकार बनी तब तक देश में एक गठबंधन था कांग्रेस की तरफ से या दूसरी पार्टी की तरफ से कोई गठबंधन नहीं था और कांग्रेस को लगता भी था कि उसे गठबंधन की जरूरत नहीं है। अब 1999  के बाद आए दो हजार चार के चुनाव वाजपेयी कहे या फिर एनडीए का गठबंधन। ये चुनाव हार गया। लेकिन कांग्रेस को भी बहुमत नहीं मिला तो फिर चुनाव के बाद कांग्रेस को भी बाकी दलों के साथ मिलकर एक गठबंधन बनाना पड़ा क्योंकि वो कांग्रेस सरकार बनाना चाहती थी सबसे बड़ी पार्टी कांग्रेस थी और एक गठबंधन बनाया जिसमें सपा की बसपा थी। ममता बनर्जी की टीएमसी थी तमिलनाडु के डीएमके दी ऐसी कई दूसरी पार्टियां भी थी। इस गठबंधन का नाम रखा गया यूनाइटेड प्रोग्रेसिव एलायंस  जिनकी अध्यक्षा बनी सोनिया गांधी। यानी की एनडीए बीजेपी के साथ वाला गठबंधन है जिसमें भी कई पार्टियां है और यूपीए कांग्रेस के साथ वाला गठबंधन है और उसमें भी कई पार्टियां हैं। तो दोस्तों ये था यूपीए और एनडीए में अंतर।

Also read : Instagram ka king kaun hai?

                                                                  THANK YOU

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *